Thank You.........

Thank You.........

Important -


◦ "डाॅ. कुमार विश्वास की प्रेरणादायी शायरी" Post में और Extra शायरियां जोड़ी गई है, आप इसे यहां Click करके पढ़ सकते है। Thanks!
◦ "विचार ही जिंदगी बनाते है!" Law of Attraction in Hindi पोस्ट को और अधिक Meaningful और Quality युक्त बनाया गया है, आप इसे यहां Click करके पढ़ कते है। Thanks!
◦ New!!! एक नया काॅलम शुरू किया है -'फलसफ़ा ज़िंदगी का' । इस काॅलम में रोजमर्रा की जिंदगी में सामने आने वाली सच्ची प्रेरणादायक कहानियों को फंडे की बात के साथ मैं यहां आपके लिए शेयर करता रहूंगा। Be Positive. Thanks!



यह ब्लाॅग आपको कैसा लगा? यह हमें Comments के माध्यम से जरूर बताए। आपके Valuable Comments ही इस ब्लाॅग को चलाए रखने में हमारा हौसला बढाते है। Thanks!!!

Saturday, 16 January 2016

डाॅ कुमार विश्वास की प्रेरणादायी शायरी

Dr. Kumar Vishwas Inspirational Hindi Shayari



दोस्तों, एक और नई शुरूआत!!!
Hindi Literature में अगर गद्य (Essay, Story, Article etc) और पद्य (Poetry) में प्राचीनता का जिक्र किया जाए तो Poetry का चलन बहुत पुराना  है। गद्य की विधा ज्यादा पुरानी नहीं है। पद्य का इतिहास हमें हजारों वर्ष पहले तक मिलता है। ऋगवेद इसका उदाहरण है जो पूरी तरह से पद्य में रचित है। और आप स्वंय माने कि जितनी सरलता पद्य में होती है उतनी गद्य में नहीं। आप खुद अपने मन में सोचे। आज आप तक जितनी भी Classes पढें है, उसमें किसी भी Class की किसी भी Book कें निबंध, कहानी, लेख आपकों पूरी तरह याद है??? नही ना!!! लेकिन यह तय है आपकों कोई न कोई कविता जरूर याद होगी। कविता की सरलता, सहजता और संप्रेषणीयता का अंदाज आप इस बात से भी लगा सकते है कि छोटे बच्चों को भी कविताएं आसानी से याद हो जाती है। यही तों कविता का जादू है।  हमें हनुमान चालीसा याद हो सकती है, रामचरितमानस याद हो सकती है, गीता के श्लोंक याद हो सकते है, वे इसलिए क्योंकि यह सब पद्य में है. सोचे कि अगर गीता, रामचरितमानस निबंध की तरह लिखी गई होती तो क्या हमें हूबहू याद हो पाती??? कम से कम मुझे तो याद नहीं होती।


इसलिए Inspirational Hindi Articles and Stories के साथ साथ मेरी बड़ी इच्छा थी कि Inspirational Hindi Poems और शायरी से संबंधित Posts भी आप तक पहुंचा पाऊं।

तो लीजिए इसी कड़ी में First Post-

vicha prerna blog motivational article in hindi
इसमें आज के समय में भारत के सबसे महंगे और प्रसिद्ध कवि डाॅ.कुमार विश्वास ( Dr. Kumar Vishwas ) की वे शायरियां है जो युवा दिलों पर राज करती है और जीवन में आगे बढने की प्रेरणा भी देती है.

डाॅ. कुमार विश्वास यूं तो प्रेम, मोहब्बत, रूमानियत, इश्क के Romantic कवि है, लेकिन जितना संघर्ष उन्होंने किया है वह अपने आप में  मिसाल है और उस  संघर्ष की पीड़ा, लड़ने की इच्छा और खुद्दारी (Self Confidence) उनकी कविताओं और शायरियों में  साफ झलकती है । 




यहां प्रस्तुत है Dr. Kumar Vishwas की ऐसी ही कुछ शायरियां-


पनाहों में जो आया हो तो उस पर वार क्या करना
जो दिल हारा हुआ हो उस पे फिर अधिकार क्या करना
मुहब्बत का मजा तो डूबने की कशमकश में है
हो ग़र मालूम गहराई तो दरिया पार क्या करना।

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास

सदा तो धूप के हाथों में ही परचम नहीं होता
खुशी के घर में भी बोलों कभी क्या गम नहीं होता
फ़क़त इक आदमी के वास्तें जग छोड़ने वालो
फ़क़त उस आदमी से ये ज़माना कम नहीं होता।

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास

स्वंय से दूर हो तुम भी स्वंय से दूर है हम भी
बहुत मशहूर हो तुम भी बहुत मशहूर है हम भी
बड़े मगरूर हो तुम भी बड़े मगरूर है हम भी
अतः मजबूर हो तुम भी अतः मजबूर है हम भी

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास

नज़र में शोखिया लब पर मुहब्बत का तराना है
मेरी उम्मीद की जद़ में अभी सारा जमाना है
कई जीते है दिल के देश पर मालूम है मुझकों
सिकन्दर हूं मुझे इक रोज खाली हाथ जाना है।

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास

हमने दुःख के महासिंधु से सुख का मोती बीना है
और उदासी के पंजों से हँसने का सुख छीना है
मान और सम्मान हमें ये याद दिलाते है पल पल
भीतर भीतर मरना है पर बाहर बाहर जीना है।

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास

Updated as on 24 January, 2016

कोई मंजिल नहीं जंचती, सफर अच्छा नहीं लगता
अगर घर लौट भी आऊ तो घर अच्छा नहीं लगता
करूं कुछ भी मैं अब दुनिया को सब अच्छा ही लगता है
मुझे कुछ भी तुम्हारे बिन मगर अच्छा नहीं लगता।

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास

वो जिसका तीरे छुपके से जिगर के पार होता है
वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है
किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से
यहां खत भी जरा सी देर में अखबार होता है।

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास

वो जो खुद में से कम निकलतें हैं
उनके ज़हनों में बम निकलतें हैं
आप में कौन-कौन रहता है
हम में तो सिर्फ हम निकलते हैं।

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास

घर से निकला हूँ तो निकला है घर भी साथ मेरे
देखना ये है कि मंज़िल पे कौन पहुँचेगा
मेरी कश्ती में भँवर बाँध के दुनिया ख़ुश है
 दुनिया देखेगी कि साहिल पे कौन पहुँचेगा।

- Dr. Kumar Vishwas डाॅ.कुमार विश्वास
------------------------------------------

तो दोस्तों कैसी लगी ये शायरियां!!! है ना वास्तव में Inspirational और Melody! Inspirational Articles, Stories and Quotes के साथ साथ ऐसी ही Inspirational Poems और शायरी मैं आपके लिए लाता रहूंगा। बस Comments के माध्यम से मुझे जरूर बताईएगा कि यह नई शुरूआत और यह पोस्ट आपकों कैसी लगी? मुझे इंतजार रहेगा........
---------------------------------------------------
OK!  Good Bye and Take Care!!!!!
---------------------------------------------------

Write with us-


यदि आपके पास Hindi में है कोई Motivational Article, या कोई Good Essay अथवा कोई Inspirational Quotes अथवा Stories तो हमें लिख भेजे Vicharprerna@gmail.com पर. आपकी सामग्री krutidev010, Devlys010 or Google unicode फॉण्ट में हो तो बेहतर है. अपनी Content के साथ अपना फोटो जरूर भेजे. पसंद आने पर हम इसे अपने Blog पर Publish करेंगे।

32 comments:

  1. Really motivating and inspirational Poetry. Kumar vishwas is my favorite poet. Nice blog and content...

    ReplyDelete
  2. कवि विश्वास जी की बारे में बहुत अच्छी प्रस्तुति
    उनकी यह कविता बहुत पसंद है ...
    कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है ! मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है !! मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है ! ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !!..........................

    ReplyDelete
  3. आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद!!!! इस संबंध में मैं और भी कुछ जानकारी जल्दी ही लेकर आने वाला हूं.

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. Shukriya Sanuk Lal ji. Prernadayak hindi lekho ke liye VP Blog par Aate rahiyega.

      Delete
  5. Muje bhahut kushi hai ki aap hindi ko etni uchaiyo par le jaye ki duniya ka har vykti hindi me ruchi le , hindi ko pyar de , smman de , uske piche ek naam ms. Do.kumar vishwaas your fain ankit singh

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks For Commenting Ankit ji. Bilkul kumar Sir jarur Hindi ko nai pahchan dilayenge.

      Delete
  6. Abhi tak ki sabse sundar kavita koi diwana kahta hai sabse jyada like karne wale hai

    Shriram lodhi gahora
    Arun kumar gahora

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks! Keep Visiting Vichar prerna blog.

      Delete
  7. कवि विश्वास जी कोई दीवाना कहता है,उनकी यह कविता बहुत पसंद है
    Shriram lodhi
    Arun kumar isagarh
    Mob-9981392525

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ji Shukriya. Unki any prerak kavitao ko bhi is blog par post kiya jayega.

      Delete
  8. सोच का इक दायरा है, उससे मैं कैसे उठूँ
    सालती तो हैं बहुत यादें, मगर मैं क्या करूँ

    ज़िंदगी है तेज़ रौ, बह जायेगा सब कुछ यहाँ
    कब तलक मैं आँधियों से, जूझता-लड़ता रहूँ

    हादिसे इतने हुए हैं दोस्ती के नाम पर
    इक तमाचा-सा लगे है, यार जब कहने लगूँ

    जा रहे हो छोड़कर इतना बता दो तुम मुझे
    मैं तुम्हारी याद में तड़पूँ या फिर रोता फिरूँ

    सच हों मेरे स्वप्न सारे, जी, तो चाहे काश मैं
    पंछियों से पंख लेकर, आसमाँ छूने लगूँ
    —महावीर उत्तरांचली

    ReplyDelete
  9. Very Nice Excellent Sir ... I m YR great Follower

    ReplyDelete
  10. I like the way kumar vishwas xpress the feeling that touch core of my heart n his voice is dynamic...

    ReplyDelete
  11. अच्छा है लोग सहर की बात में शब का जिक्र क्यों करते है।
    मुझ से ज्यादा मेरे ख्वाबों की फिक्र क्यों करते है।


    कभी आप सुनेगें

    ReplyDelete
  12. सर मुझे कुमार विश्वास जी की कविताएँ बहुत पसंद है मै उनसे मिलना चाहता हु प्लीज सर क्या आप मुझे उन से मिलवा सकते है प्लीज सर

    ReplyDelete
  13. You are an inspiration sir.
    I loved all urs creations.

    ReplyDelete
  14. You are an inspiration sir.
    I loved all urs creations.

    ReplyDelete
  15. Great kavi.. Dr. Kumar vishwas

    ReplyDelete
  16. Achhi panktiyan utaayin hain..blog achha lga

    ReplyDelete
  17. बहुत कम लोग सच्चा प्यार किया करते हैं
    बाकी सब जिस्मों का कारोबार किया करते हैं
    जाने किस तरह की है ये मोहब्बत अपनी
    हम तो मरकर भी तेरा इंतजार किया करते हैं
    शायर
    गिरीश कुमार "पुष्कर"
    उधम सिंह नगर
    उत्तराखंड

    ReplyDelete
  18. बहुत कम लोग सच्चा प्यार किया करते हैं
    बाकी सब जिस्मों का कारोबार किया करते हैं
    जाने किस तरह की है ये मोहब्बत अपनी
    हम तो मरकर भी तेरा इंतजार किया करते हैं
    शायर
    गिरीश कुमार "पुष्कर"
    उधम सिंह नगर
    उत्तराखंड

    ReplyDelete

Subscribe Every New Post

अब हर नई पोस्ट की सूचना ईमेल के माध्यम से पाए

Enter your email address:-